कैसे कहुँ याद तेरी आती है |

कभी भूले ही नहीं तुझे, तो कैसे कहुँ याद तेरी आती है | तेरे जाने का यक़ीन नहीं मुझे, तो…

Continue Reading →